Home State पत्रकारों व् मीडियाकर्मियों के खिलाफ झूठे मुकदमों पर रोक लगाने की मांग

पत्रकारों व् मीडियाकर्मियों के खिलाफ झूठे मुकदमों पर रोक लगाने की मांग

344
0

लखनऊ। केन्द्रीय पत्रकार हेल्प एसोसिएशन राष्ट्रीय संगठन मंत्री अनीस अंसारी,राष्ट्रीय महासचिव मुईज़ अहमद फरकी,उप राष्ट्रीय संगठन मंत्री दिलीप कुमार दीक्षित,राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अजय कुमार वर्मा,प्रदेश अध्यक्ष विश्वनाथ प्रसाद , प्रदेश मंत्री जीशान खान,महिला सुरक्षा प्रदेश अध्यक्ष प्रज्ञा मिश्रा,महिला सुरक्षा उप प्रदेश अध्यक्ष आकांक्षा सिंह, जिला अध्यक्ष राकेश कुमार लखनऊ,महिला सुरक्षा जिला अध्यक्ष सुनैना सिंह,जिला सचिव अजय कुमार लखनऊ,जिला उपाध्यक्ष अनिल कुमार,एवं सभी पदाधिकारी ने संगठन के माध्यम से पीड़ित पत्रकारों की उठाई आवाज राष्ट्रीय संगठन मंत्री अनीस अंसारी ने कहा कि

भारत के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद जी भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी जी उत्तर प्रदेश राज्यपाल आनंदीबेन पटेल जी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी उत्तर प्रदेश के डीजीपी मुकुल गोयल जी लखनऊ डीएम अभिषेक प्रकाश जी लखनऊ कमिश्नर डीके ठाकुर जी उत्तर प्रदेश सूचना एवं जनसंपर्क विभाग शिशिर निर्देशक ( आई0ए0एस )

पत्र में पत्रकारों व् मीडियाकर्मियों के खिलाफ झूठे मुकदमों पर रोक लगाने एवं पत्रकारों की हत्या और पत्रकारों को कवरेज के दौरान उनके साथ पुलिस व माफिया गुंडों द्वारा अभद्र भाषा का प्रयोग करना व पत्रकारों के साथ मारपीट एवं पत्रकारों पर रंगदारी छेड़छाड़ एवं पत्रकारों पर फर्जी 376 जैसी गंभीर धाराओं में फर्जी केस में झूठा फंसा कर जेल भेजना और दबंग गुंडे माफियाओं के साथ मंथली लेने के चक्कर मे पुलिस उनसे मिली भगत करके माफियाओं की बाबत पत्रकारों से बदले की भावना में बदनाम व फर्जी झूठे मुकदमे दर्ज करके जेल भेजना एवं पत्रकारों पर जितने भी पहले फर्जी मुकदमे दर्ज हुए हैं उनकी दोबारा से उच्च स्तरीय जांच कराकर निर्दोष पत्रकारों को छुड़वाना एवं पत्रकारों पर बढ़ते हमले तत्काल प्रभाव से रोकने एवं फर्जी केस में फंसाने पर रोक लगाने एवं पत्रकारों को उचित सुविधा मुहैया कराने के संबंध में लिखा गया।

Previous articleपशुपालन और पशुओं के लिए काम कर रही मुंबई लीगल टीम की एक और उपलब्धि नियम 4 के २०१७ अनुपालन के लिए भेजा था कानूनी नोटिस मिली सफलता
Next articleक्रिकेट खेलने के दौरान दिल का दौरा पड़ने से मौत का खतरा बढ़ गया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here