Home Nation छत्तीसगढ़ के इस किसान ने निकाला यूरिया का देशी जुगाड़ गौ-मूत्र, दावा-पांच...

छत्तीसगढ़ के इस किसान ने निकाला यूरिया का देशी जुगाड़ गौ-मूत्र, दावा-पांच साल से प्रयोग, हर बार बेहतर पैदावार

326
0

दुर्ग. यूरिया के संकट से प्रदेशभर के किसान जूझ रहे हैं। ऐसे में इसका देशी जुगाड़ सामने आया है। पाटन के ग्राम अचानकपुर के किसान रोहित साहू ने इसका विकल्प खोज निकाला है। किसान का दावा है कि यूरिया के विकल्प के रूप में गौ-मूत्र का उपयोग किया जा सकता है। पांच साल में दस फसलों पर प्रयोग के आधार पर किसान का दावा है कि इससे यूरिया की तुलना में बेहतर पैदावार हो रहा है। जैविक खेती में हाथ आजमाकर राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर कई पुरस्कार प्राप्त कर चुके रोहित साहू बताते हैं कि उन्होंने खुद के खेतों में गौ-मूत्र के प्रयोग के साथ इसके प्रभावों को लेकर गहन अध्ययन किया। इसके आधार पर कब कितनी मात्रा में गौ-मूत्र का छिड़काव किया जाए यह तय किया है। इसमें तीन साल से ज्यादा समय लगे। अब वे यूरिया की जगह गौ-मूत्र के इस्तेमाल से ही धान और गेहूं की खेती कर रहे हैं। इसमें बेहतर परिणाम मिल रहा है। उन्होंने बताया कि फूल की स्थिति को छोड़कर गौ-मूत्र का प्रयोग कभी भी किया जा सकता है। यह सामान्य यूरिया से कहीं बेहतर व फायदेमंद है।

खुद झेला संकट, तब आजमाया हाथ
किसान रोहित बताते है कि उन्होंने यूरिया संकट का दुष्परिणाम झेला तब उन्होंने गौ-मूत्र के प्रयोग पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने बताया कि यूरिया नहीं मिलने पर गेहूं की फसल में गौ-मूत्र डाला। इसमें बेहतर परिणाम आया। इसके बाद से उन्होंने यूरिया का उपयोग पूरी तरह बंद कर दिया है।जैविक खेती के लिए चला रहे मुहिम
रसायनिक कीटनाशकों के दुष्प्रभाव से चिंतित रोहित जैविक खेती को लेकर भी मुहिम चला रहा है। रोहित वर्ष 2013 में जैविक खेती शुरू की। तब जिले में एक-दो किसान ही प्रायोगित तौर पर जैविक खेती करते हैं। अब जिले के 2700 से ज्यादा किसान 8000 एकड़ से ज्यादा में जैविक खेती कर रहे हैं। इनमें से अधिकतर किसान ऐसे हैं जो रोहित की प्रेरणा से जैविक खेती से जुड़े हैं।गांव-गांव जाकर किसानों को प्रशिक्षण
रोहित किसानों को जैविक खेती का प्रशिक्षण भी देते हैं। वे किसानों के समूह के साथ खुद के खर्च पर सेमीनार, प्रशिक्षण, गोष्ठी आदि का आयोजन करते है। लोगों को जैविक खाद, कीटनाशक, बीज आदि भी उपलब्ध कराते हैं। उन्होंने बताया कि वे एक अभियान से जुड़कर पाटन के 20 गांवों के किसानों को जैविक खेती का प्रशिक्षण दे रहे हैं।यूरिया के विकल्प के रूप में गौ-मूत्र का इस तरह कर सकते हैं उपयोग
0 10 दिन की फसल में 700 एमएल/स्प्रेयर (15 लीटर पानी)
0 20 दिन की फसल में 1400 एमएल/स्प्रेयर
0 30 दिन की फसल में 2100 एमएल/स्प्रेयर
0 40 दिन की फसल में 3000 एमएल/स्प्रेयर
0 50 दिन या उससे अधिक में 3800 एमएल/स्प्रेयर
गौ-मूत्र के उपयोग से यह भी फायदे
0 सख्त हो चुकी जमीन को मुलायम करता है।
0 जमीन में केचुओं की संख्या में बढ़ोतरी होती है।
0 गोमूत्र छिड़कने के बाद पानी नदी-नाले में जाने से कोई प्रदूषण नहीं।
0 छिड़काव करने वाले के स्वास्थ्य पर कोई भी विपरीत प्रभाव नहीं।
0 दुर्गंध के कारण जंगली सूअर फसल को नुकसान नहीं पहुंचाता।
0 जहरमुक्त अनाज का उत्पादन, जो इम्यूनिटी पावर को बढ़ाता है।
0 जैव विविधता और पर्यावरण के लिए अत्यंत उपयोगी।

Previous articleCattle Smuggling Case: गौ तस्करी मामले में CBI कार्यालय में हाजिर हुए बांग्ला फिल्म एक्टर और TMC MP देव
Next articleगौ तस्करों ने किया पुलिस टीम पर हमला हरियाणा में गौ तस्करों के खिलाफ कार्रवाई, तीन गिरफ्तार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here