Home Gau Samachar आधुनिक विज्ञान के अनुसार गोमूत्र

आधुनिक विज्ञान के अनुसार गोमूत्र

261
0

आधुनिक विज्ञान के अनुसार गोमूत्र

नाइट्रोजन, अमोनिया, सोना नमक, तांबा, चांदी, मैंगनीज, आयोडीन, सल्फर, अमोनिया गैस, यूरिया, यूरिक एसिड, क्षारीय एसिड, हिप्पुरिक एसिड, लैक्टोज एंजाइम, क्रिएटिन, सीसा, लोहा, लोहा, हार्मोन, आर्म ऑक्साइड, कैल्शियम फॉस्फेट, प्रोपलीन ऑक्साइड, एथिलीन ऑक्साइड, ग्लूनोटोज, ग्लाइको डाई और कई प्रकार के हार्मोन, इलेक्ट्रॉन, प्रोटॉन, ग्लूकोज, एल्कलॉइड, एसीटेट, पोटेशियम बाय ट्राइटेट और कई प्रकार के खनिज; खनिज इसके अलावा, विटामिन ए, बी, सी, डी और ई कम मात्रा में मौजूद होने की संभावना है। दूध देने वाली गायों के मूत्र में लैक्टोज विशेष रूप से पाया जाता है। इसमें मौजूद फ्लेवोनॉयड और कैरोटीन हृदय को मजबूत और सुरक्षा प्रदान करता है, जबकि पी3 नामक पदार्थ रक्त को थक्का बनने से रोकता है और उसके द्रव रूप को बनाए रखता है।

इसके अलावा, कई एंजाइम जैसे मेथॉल, एरिथ्रोपोइटिन, प्रोस्टाग्लैंडीन, ऑर्डिनिलॉट, सेक्स हार्मोन, यूरोकाइनेज, साथ ही स्टेरॉयड अलग-अलग मात्रा में मौजूद होने की संभावना है। गोमूत्र में कई प्रकार के खनिज होते हैं जिनकी खोज    आधुनिक चिकित्सा विज्ञान ने नहीं की है; गोमूत्र में
कई तरह के समुद्रों की तरह
आधुनिक विज्ञान द्वारा खोजे जाने वाले रहस्य
लंबित..

गोमूत्र में ये सभी तत्व और पदार्थ शरीर में आसानी से पच जाते हैं क्योंकि ये तरल रूप में और अति सूक्ष्म रूप में होते हैं। वही पचने योग्य है। मानव शरीर पांच तत्वों से बना है, जैसे गाय मां का शरीर भी पांच तत्वों से बना होता है, मानव शरीर में भी पांच इंद्रियां होती हैं इसी प्रकार गाय माता के शरीर में भी एक ही प्रकार की पांच इंद्रियां होती हैं। गोमूत्र (पंचगव्य) मानव शरीर द्वारा आसानी से पचाया जा सकता है क्योंकि गाय माँ की शारीरिक रचना और मानव शरीर रचना बहुत समान हैं। गोमूत्र पूरी तरह से प्राकृतिक पदार्थ है। यह मानव जाति के लिए स्वास्थ्य का ईश्वर का अनमोल उपहार है।

गोमूत्र का पत्ता बनाकर गोमूत्र से शरीर में जितने भी तत्व गायब होते हैं, यानी सभी प्रकार के विटामिन और लवण, मानव जीवन के लिए आवश्यक जीवनदायी पदार्थ, गोमूत्र से प्राप्त होते हैं, जिससे मनुष्य रोग से मुक्त रहता है। शरीर की रक्षा करता है, मानव शरीर, मन का पोषण और विकास करता है, हृदय और आत्मा को चेतना से भर देता है। उत्साह उसके जीवन में खुशी और खुशी पैदा करता है।

गोमूत्र में बहुत कम मात्रा में पाया जाने वाला मेन्थॉल ग्लायोनेक्सल प्रारंभिक अवस्था के कैंसर रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। गोमूत्र पीने और लंबे समय तक इसका सेवन करने से कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है।
गोमूत्र भोजन के पाचन और रक्त निर्माण में सक्रिय रूप से योगदान देता है। यह पाचन शक्ति को बढ़ाता है। यह पेट की दीवारों को हटाकर साफ करता है और मांसपेशियों को सक्रिय करके पाचन प्रक्रिया को उत्तेजित करता है। साथ ही कई हानिकारक बैक्टीरिया को भी नष्ट करता है। पाचन तंत्र के रोगों को दूर करता है।
गोमूत्र शरीर में बड़ी मात्रा में श्रवण कोशिकाओं का निर्माण करता है। एंटीबॉडीज रोग पैदा करने वाले कीटाणुओं से लड़ने का काम करते हैं। गोमूत्र से शरीर में रोगों की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। इसलिए किसी भी महामारी के दौरान भी यह शरीर की रक्षा करती है और उसे रोगमुक्त रखती है। गोमूत्र टीकाकरण का काम करता है। जो हमने पिछले दो सालों में कोरोना काल में देखा है, भारत के देश में से एक भी गौशाला में कोरोना का एक भी मामला सामने नहीं आया….. (हाथ कंगन को आरसी काया??)
गोमूत्र में कई ऐसे तत्व होते हैं जिनकी खोज अभी तक आधुनिक विज्ञान ने नहीं की है। अज्ञात तत्व जिनका नाम नहीं लिया गया है। लेकिन गोमूत्र के ये शक्तिशाली घटक शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर शरीर को स्वस्थ रखते हैं। इसमें तो कोई शक ही नहीं है…।

गोमूत्र में यूरिया नामक पदार्थ शरीर के लिए बहुत उपयोगी पदार्थ है। गुर्दे की कार्यक्षमता को बढ़ाता है। इससे किडनी के रोग दूर होते हैं। किडनी खराब होने का डर दूर हो जाता है। गुर्दा समारोह और क्षमता
बढ़ती है।
गाय के मूत्र में मौजूद एरिथ्रोपोइटिन नामक पदार्थ नई लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए अस्थि तंत्रिकाओं को सक्रिय करता है। इससे लाल रक्त कोशिकाओं की कमी से होने वाले रोग नियंत्रित होते हैं।

गोमूत्र में “प्रोस्टोग्लिडिन” नामक पदार्थ एक हार्मोन है जो मांसपेशियों की लोच, यानी विस्तार और संकुचन की प्रक्रिया के लिए आवश्यक है। यह गर्भाशय के संकुचन और फैलाव के लिए उपयोगी है। इससे डिलीवरी नॉर्मल हो जाती है। इसकी कमी से मांसपेशियां सख्त हो जाती हैं। इसके कारण हड्डियों के जोड़ों को हिलाने-डुलाने में दिक्कत होती है। या बैठे-बैठे वेट लिफ्टिंग एक्सरसाइज करने में दिक्कत होना। शरीर में जड़ता का निर्माण होता है।

गोमूत्र में “ऑर्डिनाइलोट” नामक हार्मोन शरीर के अंगों को मस्तिष्क के आदेशों का पालन करने की क्षमता देता है। इसलिए शरीर की गतिविधि की चपलता का निर्माण होता है। शरीर में पर्याप्त शक्ति और उमंग, उत्साह, जोश और जोश का निर्माण होता है।

गोमूत्र जागता है यानी सेक्स हार्मोन को उत्तेजित करता है। यह मानवीय कमजोरियों को दूर करके सक्रिय और चेतना पैदा करता है। इससे “संतान योग निर्मित होता है।
गोमूत्र में बॉडी ग्रोथ हार्मोन यानी ग्रोथ हार्मोन होते हैं। इससे मनुष्य का शारीरिक विकास होता है। इससे मनुष्य का कद और वजन बढ़ता है। (हमारे पूर्वजों के साथ हमारी तुलना करें) गाय के मूत्र में यूरोकाइनेज जमावट प्रक्रिया के दौरान रक्त वाहिकाओं के भीतर बने रक्त के थक्कों को तोड़ देता है। इसे घोलकर वापस रक्त रूप में बदल देता है। रक्त के थक्के व्यक्ति की धमनियों को अवरुद्ध कर देते हैं। नतीजतन, रक्त परिसंचरण बाधित होता है। दिल का दौरा तब पड़ता है जब खून दिल तक नहीं पहुंचता।

गोमूत्र में रक्त को पतला तरल रूप में रखने का जबरदस्त गुण होता है। यह सार है; यानी यह रक्त को थक्का नहीं बनने देता और थक्कों को घोल देता है। रक्त के तरल रूप को बनाए रखता है। रक्त संचार को नियमित और सुचारू बनाता है। दिल के दौरे को रोकता है।
गोमूत्र में एंजाइम होते हैं। यह शरीर के लिए बहुत उपयोगी पदार्थ है। यह शरीर के सभी कार्यों को नियंत्रित करता है। नियंत्रण। उस पर नियंत्रण है।
गोमूत्र का सेवन करने वालों की प्राण शक्ति प्रबल होती है। इसके कारण ऐसे व्यक्ति वातावरण से ऑक्सीजन को बहुत आसानी से अवशोषित कर लेते हैं।

गोमूत्र के पत्तों का सेवन करने वालों का रक्त विकार ठीक हो जाता है। क्योंकि गोमूत्र रक्त में ‘लाल कोशिकाओं’ के उत्पादन को बढ़ाता है। यह शरीर की लाली को बढ़ाता है, मुख पर चमकता है, अर्थात क्रांति को बढ़ाता है।
गोमूत्र भी ‘एंटीबायोटिक’ है। वर्तमान परिदृश्य में एलोपैथी डॉक्टर कई बीमारियों में एंटीबायोटिक इंजेक्शन देते हैं। गोमूत्र लेने वालों को इसकी आवश्यकता नहीं है क्योंकि गोमूत्र एक स्व-एंटीबायोटिक है। यह रोग से लड़ने की अद्भुत शक्ति देता है।

गोमूत्र एक ‘शक्तिवर्धन टॉनिक’ है जिसके बारे में कहा जाता है कि यह मानव शरीर की कमजोरियों को दूर करता है। एलोपैथी डॉक्टर कमजोर व्यक्तियों को विटामिन की गोलियां या इंजेक्शन देते हैं। उसके शरीर में अस्वाभाविक रूप से प्रवेश करता है। शरीर ऐसे विटामिन को पचा नहीं पाता है। गोमूत्र में प्राकृतिक विटामिन, लवण और पदार्थ होते हैं। जो शरीर को टॉनिक ‘जीवन शक्ति’ प्रदान करता है।

गोमूत्र जल की जड़ से अनेक असाध्य रोगों को दूर कर स्थायी रूप से दूर करता है। उदा. हृदय रोग, कैंसर, एड्स, दमा, त्वचा रोग, पेट के रोग, श्वसन तंत्र के रोगों को ठीक करता है। लेकिन गोमूत्र के किन-किन तत्वों से कौन-से रोग ठीक हो जाते हैं, इसका अभी ठीक-ठीक पता नहीं चल पाया है; अभी शोध की काफी गुंजाइश है।गोमूत्र में छिपे हैं कई राज जो आधुनिक विज्ञान को प्रकट करना है। गौमूत्र को अभी भी आधुनिक चिकित्सा विज्ञान के आधार प्रमाण पत्र की बहुत आवश्यकता है। हजारों लोग असाध्य रोगों से ठीक हो चुके हैं। यह वास्तव में एक चमत्कार है लेकिन इसका वैज्ञानिक रूप से विश्लेषण और दस्तावेजीकरण करने की आवश्यकता है। तभी लोग गोमूत्र के प्रभुत्व को स्वीकार करेंगे। (श्रीमती सी. एन. पटेल)

गोमूत्र के सेवन से कई रोगियों के कैंसर के ठीक होने के कई मामले सामने आ रहे हैं। यह कहना मुश्किल है कि गोमूत्र का कौन सा तत्व कैंसर को ठीक करता है। वैज्ञानिक अभी तक इसका पता नहीं लगा पाए हैं। कुछ मामलों में यह पाया गया है कि गोमूत्र में मौजूद ‘मिथाइलग्लॉक्सल’ नामक पदार्थ कैंसर को ठीक करने में मददगार होता है।

गोमूत्र ‘जंतुगना’ यानी कीट नाशक है, यह रोगों के कीटाणुओं का नाश करता है। पेट के कीटाणुओं को नष्ट करता है। साथ ही, यह विभिन्न हानिकारक खाद्य रसायनों और रोग कीटाणुओं को नष्ट करता है जो हवा या पानी के माध्यम से शरीर में प्रवेश करते हैं और शरीर को स्वस्थ बनाते हैं।
अगले हफ्ते और…

 

 

 

 

 

Previous articleगाय की पूजा कर के ऋषि सुनक ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बने , क्या सुनक बीफ इंडस्ट्री को करेंगे प्रमोट ?
Next articleअपनी ही सिक्योरिटी को ले कर सुब्रमण्यम स्वामी ने मोदी सरकार के खिलाफ दिल्ली HC में दायर की याचिका

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here