Home Gau Samachar प्लास्टिक पर्यावरण के साथ गोवंश के लिए अभिशाप,

प्लास्टिक पर्यावरण के साथ गोवंश के लिए अभिशाप,

320
0

प्लास्टिक का कचरा पर्यावरण के साथ मवेशियों के लिए अभिशाप बन गया है। फेंकी गई पॉलीथीन जमीन को बंजर बनाने के साथ गोवंश को बीमार कर रही है। गोशाला लाई जाने वाली ज्यादातर गाय पॉलीथीन खाने से बीमार हैं। गाय खाना पीना छोड़ देती है और उनकी मौत हो जाती है। जांच में गायों के पेट में पॉलीथीन पाए जाने के मामले लगातार प्रकाश में आ रहे हैं।

प्लास्टिक की थैलियां का प्रयोग नुकसान दायक है। यह जानते हुए भी धड़ल्ले से इनका इस्तेमाल हो रहा है। मई 2018 को प्रदेश सरकार ने पॉलिथीन पर प्रतिबंध लगा दिया, बावजूद इसके जिले में पॉलिथीन का इस्तेमाल धड़ल्ले से किया जा रहा है।

प्लास्टिक बैग से घट रही गायों की उम्र,

घर का बचा हुआ खाना और खाद्य पदार्थ पॉलिथीन में बांध कर कूड़ेदान में फेंक देते है और भोजन खोजने वाली गाएं उसे प्लास्टिक के साथ खा लेती हैं। धीरे-धीरे उनके पेट में प्लास्टिक कचरा एकत्र हो जाता है। चिकित्सकों के मुताबिक मरने के बाद कुछ गायों के पेट से 50 से 75 किलो ग्राम प्लास्टिक कचरा पाया गया है। – कूड़ेदान में भोजन की तलाश में वाले गोवंश खाद्य पदार्थ के साथ प्लास्टिक बैग खा जाती हैं। धीरे धीरे उनके पेट में प्लास्टिक कचरा जमा होता जाता है। उनका पाचन तंत्र बिगड़ने लगता है। गायों को कैंसर सहित अन्य गंभीर बीमारियां हो जाती है और समय से पहले उनकी मौत हो जाती है।

Previous articleप्लास्टिक ज़िंदगी में घोल रही ज़हर
Next articleमहाराष्ट्र में विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव आज,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here