Home Entertainment खुलके जीने की आज़ादी और सच्चे प्यार की तलब में नारीत्व की...

खुलके जीने की आज़ादी और सच्चे प्यार की तलब में नारीत्व की एक पहेली है ‘प्यारी’, डॉली तोमर की है सशक्त भूमिका

555
0

दर्द और भावनाओं के घुटन भरे रीति-रिवाजों को पीछे छोड़ते हुए दिखाई देगी “प्यारी”

मुम्बई। मार्मिक कहानी को दर्शाती हुई फिल्म ‘प्यारी’ 2010 की एक दिल दहलाने वाली सच्ची घटना पर आधारित और प्यारी और लक्ष्मण की इस भावनात्मक कहानी को सबसे अधिक बिकने वाले उपन्यास “प्यारी” से प्रेरित है। लोगों की भावनाओं से जुड़ी इस फिल्म को ओमशील प्रोडक्शंस द्वारा रूपांतरित किया जा रहा है। प्रतिभाशाली नए कलाकारों के नेतृत्व में तथा कोई बड़े सितारे नहीं होने के बावजूद, इस फिल्म की कहानी ही एक स्टार के रूप में उभरती नज़र आएगी। फिल्म निर्माताओं ने ‘प्यारी’ को एक शानदार संगीतमय प्रारूप देने पर ध्यान केंद्रित किया है जो एक आधुनिक नाटकीय और सिनेमाई अनुभव प्रदान करेगा, और निश्चित रूप से दर्शकों के दिल के हर तार को छू जाएगा। इस फ़िल्म द्वारा एक महिला के विभिन्न रंगों और भावनाओं को महसूस किया जा सकता है और प्यारी हमारे तथाकथित समाज की हर महिला के प्रतिबिंब के रूप में उभरती नज़र आएगी।
प्यारी के रूप में अभिनेत्री डॉली तोमर ने अपनी भूमिका को सशक्त बनाते हुए जीवंत अभिनय कर दिखाया है।
रजनीश दुबे द्वारा लिखित और निर्देशित तथा ओमशील प्रोडक्शंस द्वारा प्रस्तुत प्यार और निर्वाह की अदभूत कहानी के साथ लोगों के समक्ष आएगी ‘प्यारी’।
जल्द ही यह फिल्म दर्शकों के दिलों को छूने नज़दीकी सिनमाघरों में रिलीज़ होने वाली है।

Previous articleटावर के टॉप पर हाथ जोड़ एक पैर पर खड़ा हो गया हनुमान भक्त नौशाद
Next articleईज़माईट्रिप का ट्रैवल उत्सव फेस्टिव सेल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here