Home National पशु पालक भाई एवं गोशाला प्रबंधक ध्यान दे , अक्टूबर माह चल...

पशु पालक भाई एवं गोशाला प्रबंधक ध्यान दे , अक्टूबर माह चल रहा है, अन्त कृमि नाशक दवा अवश्य दे

पशु पालक भाई एवं गोशाला प्रबंधक ध्यान दे , अक्टूबर माह चल रहा है, अन्त कृमि नाशक दवा अवश्य दे

172
0
गाय, भैंस के पेट में पलने वाले अदृश्य आंतरिक परजीवी जेसै फीताकृमि, गोलकृमि,लिवर
फ्लयूक इत्यादि दुधारू पशुओं का प्रति ब्यांत 100 लीटर तक अथवा प्रतिदिन आधा से 1.0 लीटर दूध उत्पादन कम कर देते हैं । तथा दूध उत्पादकता में 5 प्रतिशत तक की कमी हो जाती हैं।
यही नहीं आन्तरिक कृमि मादा गो पशुओं की प्रजनन क्षमता/गयाभिन होने की क्षमता भी 14 से 17 प्रतिशत तक कम कर देते है। देशी पशुओं में कम दूध उत्पादन तथा कम होती प्रजनन क्षमता मुख्य कारण भी नियमित अंतराल पर कृमि नाशक दवा नहीं देना ही प्रतीत होता है।
साधारणतया जुलाई, अगस्त माह में बरसाती पानी एवं बरसाती घांस,हरा चारा आदि खाना पीना पड़ता है जिनके साथ बरसाती कीड़े भी पशु के पेट में जाकर अपना डेरा जमा कर खून चूसना शुरू कर देते हैं। इनको समाप्त करने के लिए अक्टूबर माह में दवा दी जानी चाहिए।इसी प्रकार से नवम्बर, दिसंबर, जनवरी माह में रिजका,बरसीम, सरसों जैसे हरे चारे खिलाएं जाते हैं,इनके साथ भी विभिन्न प्रकार के कृमि पशु के पेट में चले जाते हैं। इनके निदान के लिए फरवरी माह में दवा दी जानी चाहिए। माह मई, जून में पशु के पेट में पल रहे कृमियों का ब्रीडिंग सीजन होता है इसलिए जून माह में भी दवा दी जानी चाहिए।
इस प्रकार से मवेशियों को पेट के कीड़ों से मुक्त रखने के लिए फरवरी, जून एवं अक्टूबर माह में प्रति व्यस्क पशु अन्तः कृमि नाशक दवा एलबेंडाजोल या आईवरमेक्टीन या आक्सीकलोजेनाईड 100 एम एल दवा या अपने क्षेत्र के पशु चिकित्सक की सलाह अनुसार कोई भी एक दवा दलिया, गुड में लाकर लड्डू बनाकर दे देते हैं तो दूध उत्पादन में होने वाले उपरोक्त अदृश्य नुकसान से बच सकते हैं। अतः समस्त गाय ,भेंस ,बछड़ों को समय-समय पर अन्त कृमि नाशक दवा अवश्य देवें। ‌
पशु शरीर पर पलने वाले ब्राह्य कृमि चिंचडे, जूं एवं पिस्सू इत्यादि भी काफी नुकसान पंहुचाते है। पशुओं को इनसे भी बचाये रखना आवश्यक है। एक चिंचडा प्रति दिन 1.5 एम एल खून चूस जाता है। बाजार में प्रचलित ब्यूटोक्स दवा को एक लीटर पानी में 5.0 एम एल मिला कर या कोई अन्य दवा का पशु चिकित्सक की सलाह अनुसार पशु शरीर पर पोंछा लगाना या छिड़काव करना चाहिए। बची हुई दवा को पशु शाला में भी छिड़क देना चाहिए।
सभी पशुओं को उनकी इच्छा अनुसार सेंधा या साधारण नमक भी नियमित रूप से बिना नागा के पीने के पानी में या अलग से चारे की ठान में या प्लास्टिक के आधे कटे ड्रम में भरकर पशु के सामने रख कर उपलब्ध कराते रहें। साधारण तया प्रति व्यस्क मवेशी 30 से 35 ग्राम नमक प्रति दिन अवश्य ही देना चाहिए।
‌‌ ‌- डॉ महेंद्र गर्ग ‌ पशु पालन वैज्ञानिक,
सेवानिवृत्त प्रोफेसर, कृषि विश्वविद्यालय ,कोटा
सलाहकार,बायोगेस यूआईटी, कोटा
पूर्व सलाहकार, राष्ट्रीय कामधेनु आयोग,नई दिल्ली
Previous articleराजश्री प्रोडक्शन की बहुप्रतीक्षित फिल्म ‘ऊंचाई’ का ट्रेलर जारी
Next articleप्रथम सत्र विशेष – सात दिवसीय. ” गऊ ग्राम महोत्सव ” The Festival Of Cow का आयोजन संपन्न , महाराष्ट्र के राज्य पाल के हाथों उद्घाटन , और उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल राम नाईक के हाथों समापन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here