Home Religion यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट लंदन (यूईएल) ने पुणे में भारत का पहला कार्यालय...

यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट लंदन (यूईएल) ने पुणे में भारत का पहला कार्यालय खोला करियर और शिक्षा केंद्र की दुनिया में अब आएगी बड़ी क्रांति

1120
0

यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट लंदन (यूईएल) के द्वारा भारत में  पहला कार्यालय ग्लोबल स्टूडेंट सेंटर के नाम से पुणे  में स्थापित किया गया है। आइंस्टीन और न्यूटन हॉल, हयात रीजेंसी, पुणे में एक प्रेस मीट में, डैनियल कफ, भर्ती निदेशक, पूर्वी लंदन विश्वविद्यालय और अमोल वर्पे, प्रबंध निदेशक – उच्च शिक्षा, विश्वविद्यालय भागीदारी, ग्लोबल एजुकेशन सेंटर लंदन, इंग्लैंड, यूके और एशले  वेरेस, ग्लोबल सेल्स हेड – मालवर्न इंटरनेशनल ने भारत में उद्योग 4.0 रोजगार को बढ़ावा देने के लिए यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट लंदन के रणनीतिक दृष्टिकोण की घोषणा की है। पूर्वी लंदन विश्वविद्यालय (यूईएल) न्यूहैम, लंदन, इंग्लैंड के लंदन बरो में स्थित एक सार्वजनिक विश्वविद्यालय है, जिसकी स्थापना 1898 में हुई थी और 1992 में पब्लिक विश्वविद्यालय का दर्जा प्राप्त कर चुका ये विश्वविद्यालयईस्ट लंदन में तीन जगहों पर मौजूद हैं। जिनमें से एक रॉयल डॉकलैंड्स में और अन्य दो स्ट्रैटफ़ोर्ड में स्थित हैं। 
2018-19 शैक्षणिक वर्ष से पूर्वी लंदन विश्वविद्यालय क्रमवार अपने पाठ्यक्रमों को विकसित कर रहा है और अपने छात्रों के हित में सकारात्मक बदलाव लाने के लिए अपने पाठ्यक्रम, शिक्षाशास्त्र, अनुसंधान प्रभाव और साझेदारी को बदलने के लिए और सामुदायिक सफलता के लिए एक नई प्रस्तावित योजना के तहत10-वर्षीय रणनीति ‘विजन 2028’ को भारतवर्ष में लागू करना शुरू कर रहा है।

‘यूईएल’ को दुनिया के शीर्ष 200 युवा विश्वविद्यालयों में स्थान दिया गया है, इसके अलावा मनोविज्ञान अनुसंधान के प्रभाव के लिए यूके में पहला, आर्किटेक्चर के लिए लंदन में दूसरा और सिविल इंजीनियरिंग के लिए तीसरा स्थान प्राप्त किया गया है।  यूईएल को अंतरराष्ट्रीय समर्थन और वीज़ा सलाह के लिए यूके में भी प्रथम स्थान दिया गया है, और यह लंदन का एकमात्र विश्वविद्यालय है जो परिसर में आवास प्रदान करता है। वैश्विक बाजार सिकुड़ने के साथ, यूईएल पुणे का यह विस्तार एक स्वागत योग्य कदम है।बकौल डेनियल कफ (भर्ती निदेशक, पूर्वी लंदन विश्वविद्यालय) पूर्वी लंदन विश्वविद्यालय को अक्सर करियर के नेतृत्व वाले विश्वविद्यालय के रूप में सर्वोपरि मान्यता दी गई है, और हम यह सुनिश्चित करने की एकमात्र प्रतिबद्धता से वचनबद्ध हैं कि पूर्वी लंदन विश्वविद्यालय के छात्र नियोक्ताओं के लिए पहली पसंद बनें।
प्रस्तुति : काली दास पाण्डेय

Previous articleपूर्वांचल की वे 16 सीटें
Next article100 करोड़ के काफी करीब है ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here