Home Feature News आदिबद्री बिना बद्रीनाथ की यात्रा अधूरी

आदिबद्री बिना बद्रीनाथ की यात्रा अधूरी

यह माना जाता है कि बद्रीनाथ धाम की यात्रा तभी पूरी होती है, जब पांचो बद्री धामों की यात्रा की जाए। इन्हे पंचबद्री कहा जाता है। ये है- आदिबद्री, ध्यानबद्री, योगबद्री, विशालबद्री और भविष्यबद्री।

58
0

 

दीपक नौंगाई अकेला

यह माना जाता है कि बद्रीनाथ धाम की यात्रा तभी पूरी होती है, जब पांचो बद्री धामों की यात्रा की जाए। इन्हे पंचबद्री कहा जाता है। ये है- आदिबद्री, ध्यानबद्री, योगबद्री, विशालबद्री और भविष्यबद्री।

इनमें आदिबद्री कुमाऊं के रास्ते गैरसैंण होते हुए बद्रीनाथ जाते मार्ग पर कर्णप्रयाग से 19 किलोमीटर पहले, समुद्र सतह से लगभग 3800 फीट की ऊंचाई पर स्थित है

प्रसिद्ध चांदपुर गढी से यह मंदिर समूह 3 किलोमीटर दूर है। चांदपुर गढी उतराखण्ड के 52 गढ़ो में से एक है। यह प्रसिद्ध गढ था। किले के अवशेष आज भी मौजूद है। गढ़वाल में कत्यूरी राजाओं के ह  के बाद वहां कई गढपतियों का उदय हुआ। इनमें पवार वंश सबसे   शक्तिशाली था, जिसने चांदपुर गढी मे शासन किया। कनकपाल इस वंश का संस्थापक माना जाता है। उसने चांदपुर के भानु प्रताप की पुत्री   से विवाह किया और खुद वहां का गणपति बन गया।

स्कंद पुराण में वर्णन है कि ऋषि नारायण ने जिस स्थान पर तपस्या की थी, उसी जगह का नाम आगे चलकर आदिबद्री हुआ। ऋषि की तपस्या से घबरा कर स्वर्ग के राजा इन्द्र ने उनके तप में विघ्न डालने के लिए कुछ अप्सराए भेजी, किंतु इसके जवाब में ऋषि ने अपनी जांघ पर प्रहार कर एक कन्या उतपन्न की जो उर्वशी कहलायी। इस प्रकार उन्होंने इन्द्र का मान मर्दन किया। आदिबद्री के समीप भराडी गाँव को उर्वशी की क्रीड़ास्थली कहा जाता है।

आदिबदरी रानीखेत- कर्णप्रयाग मोटर मार्ग पर स्थित है। कुमाऊं के रास्ते आने वाले यात्रियों का यह पहला पड़ाव है। इस मंदिर के दर्शन करने के बाद ही यात्री आगे की यात्रा आरंभ करते हैं। मैंने चार बार आदिबद्री के दर्शन किए है। गौरतलब है कि भगवान विष्णु का बद्री नाम वाला क्षेत्र तीनों लोकों में परम दुर्लभ है। विष्णु पंच बद्री के इन मंदिरों में अपने विभिन्न रुपों में विराजते है।

आदिबद्री के मंदिर सातवीं- आठवीं सदी के आसपास कत्यूरी राजाओं द्वारा निर्मित बताए जाते हैं। आदि गुरु शंकराचार्य ने अपनी दिग्विजय यात्रा के दौरान कुछ मंदिरों का जीर्णोद्धार किया। मूलरुप से यह 16 मंदिरों का समूह था, अब 14 मंदिर बचे है। आज यह मंदिर समूह भारतीय पुरातत्व विभाग के अधीन है।

आदिबदरी के मंदिर शिखर शैली के है जो विशाल शिलाओं को काटकर और एक के ऊपर एक रखकर बनाए गए हैं। नींव पर से चकोर स्थापत्य शैली से इन्हे उठाया गया है। ऊपर जाकर शिखर पर ये धीरे-धीरे तंग हो जाते है और शिखर पर सूर्य शिला इस शैली को पूर्ण करती है। इतिहासकारों ने इन मंदिरों की बनावट को रेखा देवल शैली, पीढा देवल शैली और खाकरा देवल शैली मे बाँटा है। इन मंदिरों की बनावट जागेश्वर और द्वाराहाट के मंदिरों से मिलती जुलती है। इससे यह भी प्रतीत होता है कि ये सभी मंदिर एक ही काल सदी मेें निर्मित हुए हैं।

हल्द्वानी से सुबह सात बजे चले तो एक या दो बजे के आसपास आप यहाँ पहुँच जाएंगे। ठीक दाई ओर यह मंदिरों का समूह है। आदिबद्री एक मंदिर न होकर कई मंदिरों का समूह है जो एक ही प्रांगण में सिमटे हुए हैं। बीच में मुख्य मंदिर है, जिसकी ऊंचाई बीस फीट है। मंदिर के गर्भगृह में चार फीट की मूर्ति स्थापित है। काले पत्थर से बनी मूर्ति चार खंडो में विभक्त है, परन्तु मूर्ति के सौन्दर्य व सजीवता को देखकर नहीं लगता कि यह चार खंडो में विभक्त है

यह मूर्ति खड़ी मुद्रा में है तथा इसके दाएं अधोहस्त में पदम नहीं है। यह हाथ वरद मुद्रा में है जिसे रजो मुद्रा कहते हैं। मूर्ति के वृक्ष पर लक्ष्मी जी का प्रतीक श्री वत्स अंकित है। मूर्ति के आसपास कई उप मूर्तियां उत्कीर्ण है। पहले ठीक ऊपर नवग्रह पंक्ति है। दांई तथा बांई ओर क्रमश: विष्णु व शिव पत्नियों सहित आसीन हैं। इसके ठीक ऊपर भगवान नारायण योगासन की मुद्रा में विराजमान हैं।

यहाँ सभी मंदिर आकर्षक मूर्तियां से युक्त है। सभी मूर्तियां प्रस्तर खंडो की बनी है। मुख्य मंदिर के ठीक सामने गरुड़ का मंदिर है। इसमें गरुड़ की दिबाहू मूर्ति है , जो बांया घुटना टेके दोनों हाथों में अमृत घट लिए हुए है। लक्ष्मी नारायण तथा सत्यनारायण के मंदिर छोटे परंतु अपनी स्थापत्य के साथ आकर्षित करते है। इन मंदिरों के अतिरिक्त अन्नपूर्णा देवी तथा महिषासुर मर्दिनी आदि के मंदिर भी कलात्मक शैली के लिए जाने जाते हैं।

आदिबदरी के मंदिरों में स्थित मूर्तियों ने तस्करों को बार बार ललचाया है। यहाँ 1965, 1966 और 1967 मे लगातार तीन बार मूर्तियों की चोरी हुई। 1967 मे मूर्ति चुराकर ले जा रहे तस्करों को ऋषिकेश में पकड़ लिया गया। विदेश पहुंचने पर इन मूर्तियों की कीमत करोडों में होती। कई सालों तक यह मूर्ति विभिन्न अदालतों में रही। 1986 मेें 14 से 21 जनवरी तक आदिबद्री धाम में हुए एक समारोह में मूर्ति की पुन: प्राण प्रतिष्ठा हुई।

यहाँ एक बहुत प्रसिद्ध मेला  नोठा कोथीग भी लगता है, जिसमें कई गांवों के लोग भाग लेते हैं। यह मेला बैशाख माह के पांचवे अथवा ज्येष्ठ माह के पहले सोमवार से शुरु होता है। लोग परंपरागत वेशभूषा तथा ढोल नगाड़ों के साथ टोलियों में मंदिर आते हैं।

आदिबद्री चमोली जिले मे है। यहां से चमोली 50 किलोमीटर और बद्रीनाथ 140 किलोमीटर दूर है।

आदिबद्री के ठीक सामने एक छोटी नदी बहती है, जिसका नाम उत्तर नारायण गंगा है। यह नदी दुधातोली से निकलती है। उत्तर दिशा की ओर बहते हुए यह सिमली ( कर्णप्रयाग) मे पिंडर नदी में मिल जाती है। पिंडर नदी कर्णप्रयाग मे अलकनंदा नदी से मिल जाती है। धापली गाँव के थपलियाल लोग मंदिर मे पुजारी का काम करते हैं। मंदिर की देखरेख के लिए मंदिर समिति भी बनाई गई है। (विभूति फीचर्स)

Previous articleमुख्यमंत्री धामी ने ऋषिकेश स्थित एम्स ’NMOCON-2024’ के 43वें राष्ट्रीय अधिवेशन का किया शुभारंभ
Next articleउत्तराखण्ड News – नशा न मात्र व्यक्ति, परिवार बल्कि समूचे सामाजिक परिवेश को करता है प्रभावित -मुख्यमंत्री धामी,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here