Home General रेहा खान ने फरिश्ता सोशल फाउंडेशन के अंतर्गत नेत्रहीनों को राशन किट,...

रेहा खान ने फरिश्ता सोशल फाउंडेशन के अंतर्गत नेत्रहीनों को राशन किट, मिठाईयां देकर मनाई दीपावली

554
0

रेहा खान ने अपने एनजीओ फरिश्ता सोशल फाउंडेशन के अंतर्गत जोगेश्वरी वेस्ट, मुम्बई में आंखों की रौशनी से वंचित कुछ लोगों को राशन किट, स्वीट्स और ड्राई फ्रूट्स देकर उनकी मदद की और दीवाली की शुभकामनाएं दीं।
फ़िल्म अभिनेत्री और सोशल एक्टिविस्ट रेहा खान (Rehaa Khann) ने बताया कि मैंने अपने एनजीओ फरिश्ता सोशल फाउंडेशन के द्वारा दीपावली के शुभ अवसर पर कुछ अंधे लोगों की मदद की। दर्जनों जरतमन्दों, मजबूरों को राशन किट, मिठाईयां और मेवे देकर उनकी हेल्प की गई। इस राशन किट में चावल, आटा, तेल, शक्कर, नमक, दाल आदि थीं।
रेहा खान ने आगे बताया कि इन दिव्यांगों की मदद करना उन्हें अच्छा लगता है, दिल को सुकून मिलता है। दृष्टिबाधितों के साथ खुशियां बांटना बेहतर महसूस होता है। फरिश्ता सोशल फाउंडेशन के जरिये इस तरह राशन का वितरण का मेरा दूसरा प्रोग्राम था। आगे हम हजारों लाखों लोगों की मदद करने का इरादा रखते हैं। मैं तमाम लोगों से कहूँगी कि जिंदगी बहुत छोटी है, आप दूसरों की मदद करते रहें। मेरे इस मिशन में आप भी शामिल हो सकते हैं, जिससे जितना हो सके, उतनी सहायता कर सकता है। इंसानियत की सेवा करना सबसे भलाई का काम है। अपने लिए तो हर कोई जीता है, दूसरों के लिए जी कर देखें आपके दिल को खूब शांति और खुशी मिलती है। जरूरतमंदों की ख्वाहिश पूरी करने में उनके चेहरे पर मुस्कान लाने में मुझे भी प्रसन्नता मिलती है।
रेहा खान ने आगे कहा कि पिछले दो वर्षों से कोविड की वजह से दीवाली का त्योहार खुलकर लोग नहीं मना सके, ऐसे में इस साल सबके साथ मिलकर पर्व मनाने की जरूरत है।
फरिश्ता सोशल फाउंडेशन नाम रखने के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में रेहा खान ने कहा कि फरिश्ते दिखाई नहीं देते मगर मुसीबत के लम्हों में आपकी मदद कर के चले जाते हैं इस वजह से मैंने अपने एनजीओ का नाम फ़रिश्ता सोशल फाउंडेशन रखा है।

Previous articleमराठी फिल्म हरिओम से कोई डायलॉग हटाना या फ़िल्म को थिएटर से उतारना मुम्बई में आकर भेलपुरी बेचने का काम नहीं है : निर्माता हरिओम घाडगे 
Next articleमानखुर्द रेलवे स्टेशन पर चलती ट्रेन से गिरे महिला और बच्‍चे की RPF जवानों ने बचायी जान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here